ब्लॉग का सादगी भरा और प्रभावी डिज़ाइन: करिए एक सुगम प्रयोग ब्लॉगर पर | Simple and effective blog design on Blogger: Give it a try

यह पोस्ट उन साथियों के लिए है जिन्होंने या तो अभी अभी ब्लॉग खोला है / ब्लॉग खोलने की सोच रहे हैं, या उन्हें सुनने को मिलता है कि उनके ब्लॉग का डिज़ाइन फूहड़ है, या फिर उन्हें खुद लगता है कि उनके ब्लॉग पर सामग्री तो बहुत है लेकिन शायद लोग मुख पृष्ठ से उस सामग्री तक नहीं पहुँच पाते.

 अगर आप इनमें से कोई हैं या फिर आप अपने ब्लॉग से संतुष्ट हैं लेकिन कोशिश में रहते हैं कि इसे कैसे और ज़्यादा उत्कृष्ट बनाया जाए, तब भी यह पोस्ट आपके लिए है.

ऋतु का ब्लॉग:
पूरा बन जाने के बाद
वेबसाइट डिज़ाइन के बारे में कई अवधारणाएं पैदा होती रही हैं जो रिसर्च, सर्वे आदि से या तो बलवती होती गईं या फिर टूट गईं. उन सब में नहीं उलझते, लेकिन एक-दो बातें जो वेबसाइट डिज़ाइन के बारे में गाँठ बाँधने लायक हैं, उनका ज़िक्र ज़रूरी है:
  • एक तो यह कि डिज़ाइन ऐसा होना चाहिए जिससे साइट में उपलब्ध सामग्री तक पहुँचने में मदद मिले.
  • दूसरा यह कि जो सामग्री बहुत महत्वपूर्ण है उसे सामने लाया जाए.
  • तीसरा ये कि वेबसाइट में सामग्री व्यवस्थित हो, न कि बिखरी हुई.
  • अगला, रंगों का प्रयोग विषय, वेबसाइट में आने वालों की उम्र और पसंद, पठनीयता जैसे कारकों को ध्यान में रखकर किया जाए. रंग प्रायः कम हों और आँखों को न चुभें.
  • और अंततः, वेबसाइट एक लाइब्रेरी या रुचिपूर्ण तरीके से सजायी दूकान या घर जैसा लगे, कबाड़ख़ाने जैसा नहीं.

यह तो हुई डिज़ाइन पर चर्चा. अब चलते हैं एक फ्री ब्लॉग बनाने जिसमें इन बातों का पूरी तरह ध्यान रखा गया है.

हम तो यह कहेंगे कि अगर आपके अभी के ब्लॉग में इतनी सारी पोस्टें और गैजेट नहीं हैं जो एक सीधे-सादे ब्लॉग में नहीं समा सकते तो इस ब्लॉग को भी नए रूप में ढालने की सोचिए. अगर ऐसा करना है तो पहले अपने अभी के ब्लॉग को स्टोर (बैकअप) कर लीजिये ताकि अगर कोई गलती हुई तो अभी का ब्लॉग ख़राब न हो जाए. इसके लिए क्या करना है वह इस पोस्ट के अंत में दिया हुआ है.

हो जाइए तैयार हमारे साथ सरल लेकिन प्रभावी ब्लॉग बनाने.

हम आपको ब्लॉगर पर ब्लॉग बनाना बताएंगे (वर्डप्रेस पर उम्दा ब्लॉग बनाना भी उतना ही आसान है.) हमने पहले भी ब्लॉगर पर नया ब्लॉग खोलने की विधि बताई है लेकिन इस नई पोस्ट का मक़सद उससे आगे का है: वेब डिज़ाइन के सिद्धांतों को समझ कर ब्लॉग को सजाने-संवारने का.

ब्लॉगर के साथ यह बहुत बड़ी बात है कि बिना पोस्ट, विजेट (या गैजेट) आदि को खोए हुए आप कभी भी ब्लॉग का डिज़ाइन क़रीब-क़रीब पूरी तरह बदल सकते हैं.

अगर शुरू से चलें तो आपको इतनी चीजों की ज़रुरत होगी:
  • गूगल अकाउंट
  • लैपटॉप या डेस्कटॉप
  • इंटरनेट कनेक्शन
दो और बातें.
  • हम नहीं चाहते कि ब्लॉगर हिंदी में खुले. ऐसा करने से आपको कई जगह अटपटे अनुवाद मिल सकते हैं जिनका न सर होता है न पैर. इसलिए हमने ब्लॉगर को इंग्लिश में ही रख छोड़ा है. 
  • दूसरे, आपको शुरुआत में ही कई जगह हिंदी में लिखना पड़ेगा, जैसे कि ब्लॉग का शीर्षक. इसके लिए आप किसी भी हिंदी टूल से हिंदी लिखकर कॉपी करके दी गई जगह में चिपका सकते हैं (=पेस्ट कर सकते हैं).  अगर आपको और कोई टूल नज़र नहीं आ रहा तो इधर क्लिक करें:  Try Google Hindi Input Tools.
  • हाँ, आपको यह तो पता होगा ही कि पोस्ट हिंदी में लिखनी हो तो पोस्ट एडिटर में 'अ' या 'A' लिखे हुए लिंक पर क्लिक करके आप हिंदी में टाइप कर सकते हैं.

अपने ब्राउज़र (इंटरनेट एक्स्प्लोरर / मोज़िल्ला फायरफॉक्स / क्रोम) में गूगल अकाउंट  खोल लीजिये.
एक नई टैब में blogger.com खोलिए. ब्लॉग का नाम पता भरने के बाद Simple डिज़ाइन चुनिए और आगे बढ़िए. आपके ब्लॉग तैयार है. अगर यहाँ तक पहुँचने के लिए मदद चाहिए तो इस पोस्ट पर जाइए (लिंक: How to start a blog: Hindi)

हम एक-एक करके ये काम करेंगे:
  • मुख्य कॉलम और साइडबार की संख्या और इनकी चौड़ाई तय करेंगे.
  • सादगी वाले फोटो या रंग की पृष्टभूमि बनाएंगे.
  • ब्लॉग को शीर्षक देंगे और उसके पीछे रंग भरेंगे.
  • ब्लॉग के ऊपरी हिस्से में मेनू-बार लगाएंगे.
  • साइडबार में ज़रूरी गैजेट रखेंगे.
  • सामग्री को व्यवस्थित करने के किए उनमेंग टैग लगाना तय करेंगे.

ब्लॉग का शीर्षक और परिचय देना 

इन सबके लिए हमें ब्लॉग के मुख्य मेनू [चित्र 1] में जाना है जो ब्लॉगर खोलने के बाद ब्लॉग के नाम में क्लिक करने पर आता है.
चित्र 1

क्लिक करिए Settings पर, फिर Title के आगे Edit को खोलकर पसंदीदा शीर्षक दे डालिए.  इसके नीचे Save Changes का बटन दबाइए . इसके नीचे Description के Edit को खोलकर ब्लॉग का छोटा सा परिचय दीजिए (क़रीब 4-5 शब्दों में). इसके नीचे Save Changes का बटन दबाइए.

साइडबार / कॉलम की चौड़ाई घटाना बढ़ाना 
 
क्लिक करिए Template और फिर Customize पर. अगली विंडो में क्लिक करिए Layout पर. इसमें चित्र 2 की तरह के ऑप्शन को क्लिक कर लीजिए.
चित्र 2

अब क्लिक करिए Adjust widths पर. ऊपर के स्लाइडर को दाँए -बाँए करके 1050 पर लाइए. नीचे के स्लाइडरों को 230 और 250 पर रखिए.

ब्लॉग की पृष्ठभूमि में चित्र लगाना  भरना
चित्र 3

Background पर क्लिक करिए. चित्र 3 की तरह आप चाहें तो किसी हलके रंग के ड्राइंग को चुन लें और Done पर क्लिक करें. या फिर कोई ड्राइंग नहीं चुनें. नीचे की विंडो में देखते रहे और रंगों / ड्राइंग / चित्रों से प्रयोग करते रहें  जबतक आपको ब्लॉग के रंग बहुत मनभावन न लगें. हमारी राय है की हलके नीले (या फिर मटमैले) रंग ज़्यादातर ब्लॉगों पर फबते हैं. अगर फैशन / थिएटर / सिनेमा / बागवानी / फोटोग्राफी जैसे विषयों पर, बच्चों के या  किसी रंगीन लम्हे पर ब्लॉग बना रहे हों तो ज़रूर बहुरंगी और चटकीले ड्राइंग चुनें. इस तरह के विषयों पर तो आप अपनी किसी फोटो या ड्राइंग को भी चुन सकते हैं. इसके लिए ड्राइंग की लिस्ट के ऊपर Upload image [चित्र 3] पर क्लिक करें.

चित्र 4
शीर्षक के पीछे चित्र लगाना 

सबसे ज़्यादा समय हम लगाएंगे Layout  मेनू पर जैसा चित्र 4 में दिखाया गया है. इसको खोलते ही आपको अपने ब्लॉग का नक्शा दीखता है, याने क्या वस्तु कहाँ पर लगी है. टॉप में देखिए Header को. इसपर लिखे Edit को खोलिए. आपने जो शीर्षक और ब्लॉग-परिचय पहले दिए थे वह नई विंडो में दिख रहे होंगे. इसके नीचे लिखा है Image और उसके सामने From the web. इसे क्लिक करके कम्प्यूटर से एक फोटो चुनकर यहां लगानी है हमें.

कुछ सादी पट्टियां हमने अपने पिकासा अकाउंट पर रखी हैं जो इन लिंक पर उपलब्ध हैं, उनमें से लगा सकते हैं. इसके लिए जो पट्टी आप चुनें उसका यूआरएल कॉपी करके वहाँ चिपका दें:

नीली पट्टी  / पीली-मटमैली पट्टी / हरी पट्टी / भूरी पट्टी / रंगीन पट्टी / बैगनी पट्टी / पीली-नारंगी पट्टी

हमने जो ब्लॉग यहां पर दिया है (ऋतु का ब्लॉग), उसमें हमने एक पट्टी लेकर उसपर कपड़ों, किताबों आदि की छोटी फोटोएं चिपका दीं: ऋतु के ब्लॉग की पट्टी

इस विंडो में Image के नीचे लिखा है Behind title and description. इसपर क्लिक करें, फिर save पर. आप edit से बाहर आ गए? 
चित्र 5

ब्लॉग के पृष्ठों को मेनूबार में लगाना 
 
अब Cross-Column के नीचे लिखे Add a Gadget को खोलिए और Pages गैजेट को चुन लीजिए. यहां पर हम Pages गैजेट लगाएंगे ताकि हमारे Pages मेनू-बार की तरह शीर्षक के नीचे आ जाएं.( ब्लॉगर में डायरी के पृष्ठ की तरह लिखे जाने वाले लेखों को post और स्थाई रूप में लिखे जाने वाले पृष्ठों को page कहते हैं.) इसके लिए Select all पर क्लिक करें, फिर save कर लें [चित्र 5].  अगर अभी ब्लॉग में Pages नहीं हैं तो इस मेनू पर फिर से आइएगा.

उपयोगी गैजेट्स का समावेश 
 
अब हम एक-एक करके उपयोगी गैजेट्स को ब्लॉग के साइडबार में लगाते जाएंगे [चित्र 5].

Layout मेनू में बाँए साइडबार में बारी-बारी से इन गैजेट्स को लगा कर सेव करते चलिए: Contact Form, Archives, Labels, Favorite Posts

अब Layout मेनू में ही दाँए साइडबार में इन गैजेट्स को लगा कर सेव करिए: Blogroll, AdSense.

इन कॉलम में आप अपने पसंदीदा गैजेट लगा सकते हैं. इस layout में ब्लॉग के नीचे वाले हिस्से में कई गैजेट्स के लिए जगह है, उनमें आप बैज या कोई और गैजेट लगा सकते हैं. AdSense गैजेट तभी काम करती है जब गूगल ने आपका AdSense खता मंज़ूर कर दिया हो. इससे आपके ब्लॉग में विज्ञापन आते रहते हैं और अगर आपका ब्लॉग मशहूर हो गया हो तो स्वतः ही आपकी कमाई होती रहती है. (ऋतु के ब्लॉग में हमने एक AdSense गैजेट दाहिने कॉलम में सब ऊपर और एक पोस्टों के बाद लगा रखी है.)

Layout मेनू में ही विंडो के ऊपरी भाग में दिए हुए Save Arrangement बटन को दबाकर View Blog पर क्लिक करिए. अगर आपको ब्लॉग के किसी भाग में परिवर्तन करना है, कि आपकी रुचि के मुताबिक़ ब्लॉग बहुत ज़्यादा ही सादगी वाला लगता हो या आपको कुछेक और गैजेट्स की ज़रूरत लग रही हो, तो ऊपर किए गए तरीके से फिर Template और Layout मेनू में जाकर मनपसंद रंगों, पृष्ठभूमि की फोटो आदि में आवश्यक परिवर्तन कर लें. हो गया आपका ब्लॉग तैयार!

पोस्टों पर टैग/ लेबल लगाना 

ब्लॉग में जब पोस्टें जुड़ती जाती हैं तो सामान्य तौर पर दिनांक के हिसाब से लगती रहती हैं - पुरानी पोस्ट नीचे जाती रहती हैं  और नई पोस्टें उनके ऊपर लगती  हैं. लेकिन जब कोई आपकी पुरानी पोस्टों को पढ़ना चाहता है तो वह ये नहीं जानना चाहता कि 5 साल पहले जनवरी की 2 तारीख को आपने क्या लिखा था, उसको चाहिए कि किसी एक विषय पर आपने क्या लिखा है. इसके लिए हम पोस्टों पर टैग या लेबल लगा देते हैं और फिर उन लेबल्स को सामने रख देते हैं जैसा कि हमने ऋतु के ब्लॉग में किया है: इसमें  बाईं ओर 'विषय-वार पोस्ट संग्रह' के नीचे जो विषय हैं उनपर क्लिक करेंगे तो उन-उन विषयों की सारी पोस्टें आपको दिख जाएंगी.

अगर आप इस बारे में नहीं जानते तो आपको एक उदाहरण देते हैं. हमारी मुख्य वेबसाइट पर जाएं: IndianTopBlogs अब शीर्षक के नीचे दिए हुए बटनों में से SOCIAL MEDIA को दबाएं. आपको जो पोस्टें दिख रही हैं वो सब सोशल मीडिया पर हमारी पोस्टें हैं.

मोबाइल पर आपका ब्लॉग

जब आपका ब्लॉग साफ़-सुथरा होता है तो मोबाइल पर वॉर बहुत सुन्दर और साफ़ दिखता है और उसे पढ़ना आसान होता है. साथ में दिया हुआ चित्र देखिए.

मोबाइल पर ऋतु का ब्लॉग:
कितना साफ़-सुथरा!
ब्लॉग की सामग्री को सुरक्षित रखना 
 
ब्लॉग को स्टोर (बैकअप) करना ज़रूरी है अगर आप अपने पुराने ब्लॉग में बड़े बदलाव ला रहे हैं, जैसे कि उसकी html में परिवर्तन कर रहे हैं या कोई कोड जोड़ रहे हैं.  ब्लॉग का layout बहुत बदल रहे हैं (तीन कॉलम के बदले एक या दो ही कॉलम रख रहे हैं) तो भी पुराने ब्लॉग को सम्हाल कर रखना ज़रूरी है. अगर ब्लॉग को export / import करना हो तब भी ब्लॉग को बैकअप कर लें.

ब्लॉग की template को सेव करने के लिए आपको Template मेनू [चित्र 2] में दाहिनी ओर Backup/ Restore बटन दबाना है. अगर काम करते करते कोई ऎसी गलती हो गई  कि सब कुछ अगड़म-बगड़म हो गया तो इसी बटन की मदद से सेव की हुई template को फिर से लगा सकते हैं.

हालांकि यहाँ हम ऐसा कुछ नहीं कर रहे हैं जिससे Template या फिर ब्लॉग की सामग्री को कोई नुक्सान पहुँच रहा हो, लेकिन जब बात चली है ब्लॉग को सुरक्षित रखने की तो बता दें की ब्लॉगर पर सारी पुरानी पोस्टों को एक स्टेप में स्टोर कर सकते हैं. इस पोस्ट पर हमने इसे विस्तार से बताया है: Saving a Blog मोटे तौर पर, Settings [चित्र 1] और फिर Other पर जाकर Export Blog को क्लिक करना है.

आशा है आपको इस पोस्ट से अपना ब्लॉग संवारने में मदद मिली होगी. अगर हाँ तो अपना अनुभव साथ में दिए कांटेक्ट फॉर्म में लिखने का कष्ट करिएगा.

Best Hindi Directory update | उत्कृष्ट हिंदी ब्लॉग्स की डायरेक्टरी का update

उत्कृष्ट हिंदी ब्लॉग्स की डायरेक्टरी के 2014-15 संस्करण का यह 30 जनवरी 2016 का update है. डायरेक्टरी के इस संस्करण को सितम्बर 2015 में ज़ारी करते हुए हमने कहा था, ... क्षमा कीजियेगा इस बात के लिए कि हमने कुछ ऐसे ब्लॉग भी डायरेक्टरी में शामिल किये हैं जिनका स्तर उन्नत ब्लॉगों की तुलना में कमतर है, लेकिन ये ब्लॉग यहां इसलिए आ सके हैं कि ये हिंदी ब्लॉगिंग को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं.
हम साल दर साल यह देख रहे हैं कि हिंदी के कई सारे ब्लॉगर बहुत आत्म-विभोर रहते हैं अपनी भाषा से, अपने गँवई लहज़े में कुछ कह पाने के हुनर से या अपने कवित्व से. कुछ मित्र आधा दर्जन ब्लॉग खोल बैठे हैं लेकिन एक ब्लॉग पर भी ध्यान नहीं दे पाते. कुछ ने अपने ब्लॉग को दर्जनों बैज, उतनी ही widget, उससे भी ज़्यादा निम्न-स्तरीय फ़ोटो और कुछेक विज्ञापन से इतना सजा दिया है कि समझ नहीं आता कि ब्लॉग में हैं या गाँव के मेले में. अब कुछ मित्र हमारी इन टिप्पणियों पर बखेड़ा भी खड़ा करना चाहेंगे, सो करें. हम स्पष्ट कर दें कि न तो हम भाषा के विद्वान हैं, न कवि हैं और न ग्रामीण संस्कृति को कमतर आंकने वाले. हमने बस इस ओर ध्यान दिलाना चाहा है किअगर हिंदी के ब्लॉगर या अन्य ऑनलाइन लेखक अपनी सोच का दायरा बढ़ा लें, ब्लॉग को कविता से बाहर ले जाएं, डिज़ाइन-रंग-सज्जा जैसे मुद्दों पर ध्यान दें, और भाषा के मूलभूत ढाँचे और मात्रा आदि का ध्यान रखें तो हिंदी का यह ऑनलाइन संसार बहुत खूबसूरत तथा समृद्ध हो जाएगा. 

ब्लॉग हमारा अपना कैनवस है, लेकिन हमने इसे www में उतारा है इस मंशा से कि अन्य लोग इधर आएं और जो हमने लिखा है/ दिखाया है उसे पढ़ें/देखें. इसलिए अगर हम इसे  बेतरतीब ढंग से रखें तो न तो यह आर्ट कहलाएगा, न अच्छा साहित्य और न सुसज्जित डायरी. अगर ऐसा लगा कि कुछ मित्र ब्लॉग-सज्जा पर हमसे सलाह लेने के लिए उत्सुक हैं तो हम इस ब्लॉग पर ऐसे विषयों पर चर्चा कर सकते हैं.  वैसे हमने ब्लॉग शुरू करने पर अभी भी कुछ पोस्टें प्रकाशित कर रखी हैं जो इस लिंक पर उपलब्ध हैं: अपना ब्लॉग कैसे बनाएं तथा कैसे संजोएं How to make one's blog and maintain it


आपके सुझावों का स्वागत है. आप तुरंत ईमेल भेज सकें, इसके लिए साथ में contact form दिया हुआ है. आशा है, आपके कमेंट्स हमें मार्गदर्शन देते रहेंगे. 

इस updation में हमें कई ब्लॉगों को खोना पड़ा है. कुछ ऐसे ब्लॉग हट गए जो पहले ही हट जाते तो अच्छा था, लेकिन
कुछ अच्छे ब्लॉग केवल इसलिए हट गए कि ब्लॉगर मित्रों ने उनको कई महीनों तक छोड़े रखा. ऐसे ब्लॉगों को खोने का हमें रंज है. इस बीच तीन ब्लॉगों का URL ख़त्म हो गया, चार ब्लॉगों में ऎसी widget लगा दी गईं कि उनमें नुक्सान-दायक कोड आ गए, और एक ब्लॉग प्राइवेट हो गया. इस बीच कई मित्रों ने नए ब्लॉग भी सुझाए, लेकिन उनमें से हम केवल एकाध ब्लॉगों को ही सम्मिलित कर पाए. क्या करें, डायरेक्टरी का स्तर बढ़ाते रहने की कसम जो खाई है. 

 नए मित्रों का अभिवादन और उन्हें बधाई. 

Do suggest good blogs for Hindi Directory | हिंदी ब्लॉग डायरेक्टरी के लिए अच्छे ब्लॉग सुझाइए ना !

ITB इस महीने के अंत में हिंदी के उत्कृष्ट ब्लॉगों की डायरेक्टरी को update करने जा रहा है.


हमने डायरेक्टरी के 2012-13 संस्करण को प्रकाशित करते समय कहा था कि हिंदी में ब्लॉगिंग अभी परिपक्व नहीं हुई है इसलिए हम बहुत कमज़ोर डिज़ाइन, रंग-सज्जा जैसे पहलुओं को नज़रअंदाज़ कर रहे हैं. अब समय आ गया है कि हम इस बार डिज़ाइन पर ज़्यादा ध्यान दें ताकि डायरेक्टरी का स्तर ठीक रखा जा सके. चूँकि हिंदी के कई ब्लॉगर डिज़ाइन और पठनीयता पर या तो बिलकुल ध्यान नहीं देते या फिर ब्लॉग को बेतुके रंगों से रंग देते हैं, हमें डर है कि इनके ब्लॉग डायरेक्टरी से हटने लगेंगे चाहे उनके लेखन का स्तर बेहतर हो. हम ऐसे ब्लॉगर मित्रों से क्षमा चाहेंगे.

जनवरी का यह update जून तरह विस्तृत नहीं होता, लेकिन अगर आप किसी अच्छे ब्लॉग के बारे में जानते हैं तो हमें बताएँ इस ईमेल पर: kp.nd.2008@gmail.com . हम ज़रूर ऐसे अच्छे ब्लॉगों को डायरेक्टरी में समाहित करना चाहेंगे.


Hindi Blogging | क्या आप हमारे लेखों के अनुवाद में मदद करना चाहेंगे?

मित्रो,

जैसा कि हमारे सब चहेते जानते हैं, हम इंग्लिश में ब्लॉगिंग से जुड़े विषयों पर पर विस्तार से चर्चा करते रहते हैं. लेकिन हम चाहते हुए भी उन सबका हिन्दी में अनुवाद नहीं कर पाते. अगर आपमें से कोई मित्र इस बारे में मदद करना चाहें तो हम उनका स्वागत करेंगे. इससे अन्य ब्लॉगर मित्रों को मदद मिलेगी.

आप अपनी इच्छा हमें इस ईमेल पर भेजें: kp.nd.2008@gmail.com
आपकी अपनी वेबसाइट हो या ब्लॉग हो. उसका पता आप हमें लिख भेजें.

आपको हिंदी का अच्छा ज्ञान होना ज़रूरी है. साथ ही आप इंग्लिश से हिंदी में सरल भाषा में अनुवाद कर सकते हों. स्तरीय खडी बोली में लिखी गई हिंदी ही मान्य होगी, लेकिन उसमें बोल-चाल के शब्दों का प्रयोग अच्छा माना जाएगा. जिस तरह हम खुद इस ब्लॉग में अनुवाद करते आये हैं, हम उससे खुश नहीं हैं.

 विषय-वस्तु का ज्ञान आवश्यक नहीं है.

सब मिलाकर 4-5 % से ज़्यादा गलतियां होने पर हम अनुवाद नहीं ले पाएंगे. गलतियां मात्रा, वर्तनी, व्याकरण - किसी भी तरह की न हों.

एक बार तय हो जाए कि आप हमारी पोस्ट का अनुवाद करने के लिए तैयार हैं और सक्षम हैं तो हम मिलकर तय करेंगे कि किस पोस्ट का अनुवाद किया जाय. इस तरह आप और हम मिलकर हिंदी में ब्लॉगिंग को बढ़ावा देने का काम करेंगे.

ध्यान रहे, हम किसी तरह का पारिश्रमिक देने की स्थिति में नहीं हैं. हम इस ब्लॉग पर आपका अनुवाद प्रकाशित करेंगे, जिसमें यह साफ़-साफ़ दिया होगा कि अनुवाद आपने किया है. हम आपके ब्लॉग / वेबसाइट का लिंक भी साथ में देंगे. इससे आपके ब्लॉग को अधिक लोग देख पाएंगे और उन्हें यह भी पता होगा कि आप ITB से जुड़े हैं.

अगर आप हैं तैयार तो ईमेल भेज कर जुड़िए.